Posted in Uncategorized

Parth Sarathi पार्थ सारथि

Mahabharata is great epic of India and should be read at least once. But one lakh shlokas make it so big that ordinary person does not dare to think of reading it.

It is Bhagwan Krishna who has made this great grantha so great. Bhagawad Geeta is a part of Mahabharata which attracts every sadhak.

Sri Chakra ji’s book Parth Sarathi has related the story of Mahabharata with Bhagawan Krishna as the centre, so we get what we want in a very beautiful and interesting way which enhances the devotion for Lord Krishna.

Read the four volumes of Krishna Charita, and then read Kanhai- a must.

You will definitely get unbound devotion to Him.

Book is divided into 4 parts for the ease of downloading……

महाभारत भारत का महान महाकाव्य है और इसे कम से कम एक बार पढ़ा जाना चाहिए। लेकिन एक लाख श्लोक इसे इतना बड़ा बना देते हैं कि सामान्य व्यक्ति इसे पढ़ने की सोचने की हिम्मत नहीं करता।

यह भगवान कृष्ण ही हैं जिन्होंने इस महान ग्रन्थ को इतना महान बनाया है। भगवद गीता महाभारत का एक हिस्सा है जो हर साधक को आकर्षित करता है।

श्री चक्र जी की पुस्तक पार्थ सारथी ने महाभारत की कहानी को भागवन कृष्ण को केंद्र में रखकर वर्णन किया है इसलिए हमें वह मिलता है जो हम बहुत सुंदर और रोचक तरीके से जानना चाहते हैं जो भगवान कृष्ण के लिए भक्ति को बढ़ाता है।

कृष्ण चरित्र के चार खंड पढ़े, और फिर कन्हाई को पढ़े। आप निश्चित रूप से उसके प्रति असीम भक्ति को प्राप्त करेंगे।

डाउनलोड करने में आसानी के लिए पुस्तक को 4 भागों में बांटा गया है ……

parth sarathi 1-110

parth-sarathi-111-220

parth-sarathi-221-330

parth-sarathi-331-440

Advertisements

Author:

Nothing Special! I just want to be at the feet of Bhagawan Sri Krishna and Radha Rani-my loving mother.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s